वॉरेन बफे की जीवनी – Warren Buffett Biography In Hindi

Biography In Hindi: वॉरेन बफे के नाम से आज पूरी दुनिया परचित है, इसलिए आज के समय में यह किसी के पहचान के मोहताज नहीं है । वॉरेन बफे को शेयर बाजार का खिलाडी, वॉल स्ट्रीट का जादूगर और बर्क़शायर हैथवे (Berkshire Hathaway) का बादशाह के नामो से भी जानती है। अब तो आप इनके और नामो से जान ही गए होंगे कि वॉरेन बफे किन कारनामो की वजह से प्रसिद्ध है। वॉरेन बफे ने यह साबित कर दिया कि शेयर मार्किट में कोई भी इंसान कितना भी कमा सकता है, और कितना भी अमीर बन सकता है।

वॉरेन बफे का जीवन परिचय - Warren Buffett Biography In Hindi

वॉरेन बफे का जीवन परिचय – Warren Buffett Biography In Hindi


वॉरेन बफे का जन्म कब और कहाँ हुआ था ? इनके माता-पिता का क्या नाम है ? वॉरेन बफे अपने जीवन में किस वजह से प्रसिद्ध हुए? वॉरेन बफे की कमाई कितनी है ? यह सारी जानकारी नीचे दी गई है-

पूरा नाम ( Full Name ) वॉरेन एडवर्ड बफेट
जन्म ( Birth ) 30 अगस्त 1930
जन्म स्थान ( Birth Place ) ओमाहा नेब्रास्का
पिता का नाम ( Father’s Name ) होवार्ड बुफेट
माता का नाम ( Mother’s name ) लीला बुफेट
पेशा ( Occupation ) अमेरिकी निवेशक, व्यवसायी
कुल सम्पति ( Net Worth ) $ 82 बिलियन
शिक्षा ( Education ) बी.एस & एम एस (अर्थशास्त्र )

वॉरेन बफे का बचपन – Childhood Of Warren Buffett


वॉरेन बफे का जन्म 30 अगस्त 1930 को नेब्रास्का राज्य के ओमाहा शहर में हुआ, यह शहर अमेरिका में स्थित है, उनके माता-पिता का नाम हावर्ड और लीला (स्टाल) था, इनके पिता एक स्टॉक ब्रोकर थे और वॉरेन बफे शायद इसी कारण स्टॉक मार्केट और बिज़नस के बारे में बचपन से ही बहुत रूचि लेने लगे।

वॉरेन बफे का जीवन बहुत ही मजेदार रहा है, वॉरेन बफे ने 11 साल की उम्र में स्टॉक मार्केट में $38 का शेयर खरीदा,लेकिन इस स्टॉक का भाव कुछ ही दिन में $27 हो गया, लेकिन बिना घबराये वॉरेन बफे ने धैर्य से काम लिया, और कुछ दिन बाद वापस जब स्टॉक का भाव $40 हो गया, तब उन्होंने वो स्टॉक बेच दिया, इस शेयर वॉरेन बफे यह सबक लिया कि –

स्टॉक मार्किट निवेश में धैर्य से काम ले।

वॉरेन बफे की शिक्षा – Warren Buffett’s Education


भारत देश की आजादी के समय वॉरेन बफे 17 हो चुके थे, 1947 में ही वॉरेन बफे ने वूड्रो विल्सन हाई स्कूल वॉशिंगटन,से High school की अपनी पढाई भी पूरी कर ली थी, पढाई के दौरान भी वॉरेन बफे मन बिज़नेस में बहुत लगता था,  और इनका मन पढाई में ज्यादा नहीं लगता था,लेकिन पिता के बहुत समझाने पर इन्होने आगे की पढाई शुरू की

आगे की पढाई उन्होंने पेन्सिल्वेनिया यूनिवर्सिटी से शुरू की, जहा पर उन्होंने केवल दो साल पढाई की, लेकिन उन्होंने बाद में वह से पढाई छोड़ दी यह कहकर – “वहा के प्रोफ़ेसर उनसे कम जानते है।”

फिर बाद में इन्होने अपना ग्रेजुएशन नेब्रास्का लिंकन यूनिवर्सिटी से पूरा किया, और बाद में उन्होंने हार्वर्ड यूनिवर्सिटी में पढने के लिए अप्लाई किया, जहा हार्वर्ड ने वॉरेन बफे की कम उम्र को देखते हुए उनका Application रिजेक्ट कर दिया

कोलंबिया बिज़नस स्कूल से बेंजामिन ग्राहम की क्लास से A+ ग्रेड पाने वाले एकमात्र विद्यार्थी थे, और वहा से अर्थशास्त्र में M.S. की डिग्री ली, जिसने उनकी पूरी जिंदगी को बदल दिया।

सफलता पाने में वॉरेन बफे की कहानी- Biography In Hindi


वॉरेन बफे को अपने जीवन में सही तरीके से काम करने का मौका तब मिला जब बेंजामिन ग्राहम ने वॉरेन बफे को $12000 पर अपनी फर्म में नौकरी पर रख लिया, इसी बीच उनको शेयर बाजार के उतार-चढ़ाव को फायदे के लिए इस्तेमाल किये जाने वाले तरीको को समझने का मौका मिला।

2 साल बाद बेंजामिन ग्राहम ने सेवानिवृत ले ली, एक बार फिर एक बार फिर बफेट ने अपना काम शुरू करने की योजना बनाई और बफेट पार्टनरशिप लिमिटेड के नाम से निवेश फर्म बनाई, इसी फर्म में हुई अपनी कमाई से बफेट ने अपना पहला और वर्तमान घर 31 हजार 500 डॉलर में खरीदा. इसके बाद तो वॉरेन ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा और 1962 आते-आते महज 32 साल की उम्र में अमेरिका को एक नया करोड़पति मिल चुका था।

वॉरेन बफे की पुस्तकें – Warren Buffett’s Books


1. Dream Big
2. Buffetology
3. The Outsiders
4. First a Dream
5. Enlightenment Now
6. Security Analysis
7. Nuclear Terrorism
8. Take on the Street
9. Essays In Persuasion
10. The Wealth of Nations
11. The Warren Buffett Way
12. Poor Charlie’s Almanack
13. Jack: Straight from the Gut
14. The Theory of Investment Value

वॉरेन बफेट निवेश नियम (रणनीति ) – Warren Buffett Tips In Hindi


  • कमाई – कभी भी अकेली आय पर निर्भर न रहे। आय का दूसरा साधन बनाने के लिये निवेश करे।
  • सफलता – जब मौके आते है तभी आप कोई काम करते हो। मेरे जीवन में एक ऐसा पल भी आया था जब मेरे पास उपायों का गठरा पड़ा था। लेकिन यदि मुझे अगले हफ्ते कोई उपाय आता है तो ही मै कुछ कर पाउँगा अन्यथा मै कुछ नही कर पाउँगा।
  • खर्च – यदि आपको जिसकी जरुरत नही है वो चीज़े आप खरीद रहे हो तो एक दिन आपको जिन चीजो की जरुरत है उस चीजो को बेचना पड़ेगा।
  • सेविंग – खर्च करने के बाद जो बचे उसे सेव न करे लेकिन सेव करने के बाद जो बचा उसे खर्च अवश्य करे
  • जोखिम – कभी भी नदी की गहराई को दो पैरो से नही नापना चाहिये।
  • निवेश – कभी भी अपने सारे अन्डो को एक ही बास्केट में न डाले।
  • उम्मीद – इमानदारी सबसे महंगा तोहफा है. छोटे लोगो से इसकी उम्मीद ना करे।
  • इंसानियत – यदि आप इंसानियत के 1% लकी लोगो में भी शामिल हो, तो आप 99% लोगो को इंसानियत सिखा सकते हो।
Related Post

Leave a Reply