देहरादून के पर्यटन स्थल

Apr 03,2021 06:18 AM posted by Admin

देहरादून (दन घाटी) गढ़वाल और उत्तराखण्ड का मुख्यालय है। यह शहर अपने आप में अद्वितीय व पर्यटन के लिए आदर्श-स्थल है। सन् 1819 से पूर्व गढ़वाल रियासत का भाग रहे देहरादून का गत 300 वर्षों का गौरवशाली इतिहास नेपाल आक्रमण, ईस्ट इंडिया कंपनी का शासन व देश के स्वतंत्रता संग्राम से लेकर उत्तराखण्ड राज्य की राजधानी हो जाने तक की घटनाओं का चश्मदीद गवाह रहा है। इस शहर के बारे में कहा जाता है कि जो एक बार यहां बस गया, समझो वह सदा के लिए यहीं का हो गया।

देहरादून में घूमने वाली जगह - Tourist places in Dehradun in hindi

डाक पत्थर, आसन झील, कालसी, सहस्त्र धारा, टपकेश्वर महादेव मंदिर, राबर्स केव, मालसी मग विहार, लच्छीवाला, लाखामंडल, चकराता एवं टाइगर फाल्स। 

डाक पत्थर - Dakpatthar Tourist places

यह खूबसूरत घाटी एशिया की सबसे बड़ी विद्युत परियोजना के लिए प्रसिद्ध है। देहरादून से इसकी दूरी 45 किलोमीटर है। यहां यमुना स्थित बैराज, विद्युत-गृह, शक्ति नगर व खूबसूरत बाग देखने योग्य हैं। यहां गढ़वाल मंडल विकास निगम का विश्राम गृह भी है, जहां ठहरने की उत्तम व्यवस्था है।

आसन झील - Assan Barrage Tourist places

यह कृत्रिम झील देहरादून-चकराता मार्ग पर देहरादून से 44 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। पिछले कुछ सालों से यहां विदेशी पक्षियों का आना शुरू हो गया है। इस झील में आप बोटिंग का भी आनंद ले सकते हैं। यहां ठहरने के लिए गढवाल विकास निगम का एक विश्राम-गृह भी है।

कालसी - Kalsi Tourist places

कालसी देहरादून से 40 किलोमीटर दूर कालसी-चकराता मार्ग पर स्थित है। यहाँ यमुना नदी के किनारे सम्राट अशोक के राज्याभिषेक के 14 वर्ष बाद का व 250 ई.पू. स्थापित किया गया एक शिलालेख भी है।

सहस्रधारा - Sahasradhara Tourist places

देहरादून से लगभग 14 किलोमीटर दूर दो पहाड़ियों से घिरा यह मनोहारी पिकनिक स्थल पर्यटकों को दूर से ही लुभाता है। यह स्थल अपने गंधक के पानी की धाराओं के लिए विख्यात है।

टपकेश्वर महादेव मंदिर - Tapkeshwar Mandir Dehradun Tourist places

टपकेश्वर महादेव का यह खूबसूरत मंदिर देहरादून बस अड्डे से साढ़े पांच किलोमीटर की दूरी पर गढ़ी छावनी में टौंस नदी के किनारे बना हुआ है। इस मंदिर का अपना धार्मिक महत्त्व है।

राबर्स केव (गुच्चू पानी) - Robber's Cave Tourist places

यह स्थल देहरादून से 8 किलोमीटर दूर गढ़ी छावनी के भीतर अनारवाला गांव के पास स्थित है। मनोरंजन के लिए यह एक आदर्श जगह है। 

मालसी मृग विहार - Mrig Vihar Zoo (Baldhauti) Tourist places

यह मृग विहार देहरादून-मसूरी डाइवर्सन मार्ग पर शहर से लगभग 10 किलोमीटर दूर ‘मालसी' नामक शांत व प्रदूषणरहित गांव में विकसित किया गया है। यहां एक छोटा चिड़ियाघर भी है, जहां विभिन्न प्रकार के जीव-जंतु देखे जा सकते है। 

लच्छीवाला - Lachhiwala Picnic Spot Tourist places

यह रमणीक स्थल शहर से 15 किलोमीटर दूर घने जंगलों के बीच है। यहां के लिए देहरादून शहर से नियमित बस सेवा व अन्य दूसरे परिवहन आसानी से मिल जाते है। 

लाखामंडल - Lakha Mandal Shiv Temple Tourist places

यह मंदिर चकराता से 40 किलोमीटर व मसूरी से लगभग 80 किलोमीटर दूर है। स्थानीय लोग इस स्थल को महाभारत के लाक्षागृह से संबंधित मानते हैं, जबकि इतिहासकारों के अनुसार इसे यादव वश की राजकुमारी ईश्वरा ने अपने पति चंद्रगुप्त की याद में बनवाया। इस मंदिर में एक काला शिवलिंग स्थापित है जिस पर जल डालकर पर्यटक अपना प्रतिबिम्ब देख सकते हैं। 

चकराता - Chakrata Tourist places

चकराता देहरादून से 96 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। समुद्र-तल से इसकी ऊंचाई 2200 मीटर है। यह स्थान दो पहाड़ियों, चकराता और कलिना पर बसा हुआ है। पहले यहां ब्रिटिश सैनिकों की छावनी हुआ करती थी। यहां की सुंदर पहाड़ियां व सघन वन पर्यटकों के मन पर अमिट छाप छोड़ते हैं। वर्तमान में सैनिक छावनी होने से यह स्थान विदेशी पर्यटकों के लिए प्रतिबंधित है। 

टाइगर फाल्स - Tiger Fall -Chakrata Tourist places

टाइगर जल-प्रपात चकराता से 5 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। लगभग 1,395 मीटर की ऊंचाई से गिरते हुए इस जल-प्रपात की आवाज बाघ की दहाड़ जैसी सुनाई पड़ती है, इसलिए इसका नाम टाइगर फाल्स पड़ा है।

देहरादून कैसे जाएं?

रेल मार्ग : देहरादून देश के प्रमुख व अन्य शहरों से रेल मार्ग द्वारा जुड़ा हुआ है। यह नगर उत्तर रेलवे का अंतिम बड़ा स्टेशन है। 

सड़क मार्ग : सड़क मार्ग द्वारा देहरादून देश के सभी प्रमुख शहरों से जुड़ा हुआ है। समीपवर्ती प्रदेशों से यहां के लिए नियमित रूप से बसें चलती हैं।