चंडीगढ़ के पर्यटन स्थल

Mar 12,2021 06:05 AM posted by Admin

पर्यटकों का मन मोह लेने वाला शहर चंडीगढ़ पंजाब एवं हरियाणा की संयुक्त राजधानी है। यह उत्तर भारत का ही नहीं, बल्कि देश का योजनाबद्ध बसाया गया शहर है। शिवालिक पर्वत की तलहटी में बसे इस शहर के खूबसूरत बाग, साफ-सुथरी सड़कें और सुनियोजित ढंग से सजे बाजार देशी-विदेशी पर्यटकों का मन मोह लेते है। वास्तुकार ला कारबूजिए और उसके सहयोगियों द्वारा बनाया गया। इस शहर की चौड़ी व साफ-सुथरी सड़कें जहां इसकी उत्कृष्ट योजना को दर्शाती हैं, वहीं इस शहर की सभी कालोनियां, मोहल्ले और गलियां अपनी उम्दा वास्तुशिल्प के लिए जानी जाती हैं।

यहां न घुमावदार व तंग गलियां हैं और न ही गगनचुंबी इमारतें। इसकी स्वच्छता बनाए रखने की शायद यह भी एक अहम वजह है। बेहद योजनाबद्ध तरीके से बसाया गया, यह शहर पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र बन चुका है। कहा जाता है कि इस शहर का नाम चंडी देवी के नाम पर पड़ा है। शहर से केवल 15 किलोमीटर दूरी पर यहां एक चंडी देवी का मंदिर है, जहां पर्यटकों की खासी भीड़ देखने को मिलती है। इस शहर की एक विशेषता यह भी है कि यहां बदल में तथा बहुत कम दूरी पर स्थित अनेक विश्व-स्तरीय दर्शनीय स्थलों को देना है। अपनी अदभत संदरता की वजह से ही यह शहर ब्यूटीफुल सिटी के जाना जाता है।

चंडीगढ़ के पर्यटन स्थल - Tourist places in Chandigarh in hindi

कैपिटल कॉम्पलैक्स, रॉक गार्डन, सुखना झील, रोज गार्डन, गांधी भवन, लेजर वैली, टैरेस गार्डन, कला सागर, बोगनवोलिया गार्डन, संग्रहालय, टोपिआरी पार्क

कैपिटल कॉम्पलैक्स (सेक्टर-1) -Capitol Complex Sector 1 Chandigrh

चंडीगढ़ के सेक्टर-1 में स्थित सचिवालय, उच्च न्यायालय, ओपन हैं आदि वास्तुकला के उत्कृष्ट उदाहरण हैं और दर्शनीय हैं।

रॉक गार्डन -Rock Garden of Chandigarh Tourist places

यह चंडीगढ़ का बेहद खूबसूरत पार्क है। यहां की सुंदरता सैलानियों का दिल जी लेती है। यह अपनी किस्म का अनूठा गार्डन है। प्रसिद्ध कलाकार नेकचंद द्वारा रचित दस गार्डन में बेकार तथा टूटी-फूटी वस्तुओं से अनूठी कृतियों का निर्माण किया गया है जो कि कल्पनालोक से कम नहीं हैं। यह पार्क नित्य सुबह 10 बजे पर्यटकों के लिए खोल दिया जाता है।

सुखना झील (सेक्टर-1) -Sukhna Lake (Sector 1 ) Tourist places

जमील शिवालिक की तलहटी में अप्राकृतिक रूप से बनाई गई है। इस झील में नाना प्रकार की मछलियां भी हैं, जिन्हें पकड़ने से पहले पर्यटन विभाग से अनुमति लेनी पड़ती है। इस झील में पर्यटक नौका विहार का आनंद भी उठा सकते हैं। वाटर स्पोर्ट्स तथा अन्य जल क्रीड़ाओं के लिए यह उत्तम स्थल है।। सुखना झील विदेशी पर्यटकों के लिए वाटर स्पोर्ट्स व अन्य जल क्रीड़ाओं के लिए यह उत्तम जगह है

रोज गार्डन (सेक्टर-16) - Zakir Hussain Rose Garden (Sector 16 ) Tourist places

लगभग 30 एकड़ भू-भाग में बनाया गया तथा 1600 से भी अधिक किस्मों के गुलाब के फूलों वाला यह बाग एशिया का सबसे बड़ा गुलाब के फूलों का बाग है। यहां का सौंदर्य पर्यटकों को आश्चर्यचकित कर देता है। फरवरी माह में यहां कई किस्म के गुलाब खिले रहते हैं। उस समय यहां 'रोज फेस्टीवल' भी बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है। इस दौरान इस पार्क में पर्यटक खूब फोटोग्राफी करते हैं। इस बाग के मध्य लगभग 70 फुट का एक फव्वारा भी है, जो इसकी सुंदरता में चार चांद लगाता है। यह गार्डन अप्रैल से सितंबर के महीनों में सुबह 5 बजे से शाम 9 बजे तक खुला रहता है। शेष महीनों में यह 1 घंटा देर से खोला जाता है।

गांधी भवन (सेक्टर-14) - Gandhi Bhavan (Sector 14 ) Tourist places

गांधी भवन एक भव्य इमारत है। इस इमारत के बारे में कहा जाता है कि यह शहर की सबसे फोटोजनिक इमारत है।

लेजर वैली (सेक्टर-10) - Leisure Valley (Sector 10 ) Tourist places

चंडीगढ़ से कुछ ही दूर स्थित यह एक बेहद ही खूबसूरत सैरगाह है। यहां का शांत वातावरण व प्राकृतिक सौंदर्य पर्यटकों का मन मोह लेता है। यहां के हरे-भरे बाग व फूलों से भरे रास्ते पर्यटकों को सुखद अनुभूति प्रदान करते हैं। यहां चारों ओर नैसर्गिक सौंदर्य बिखरा हुआ है। लेजर वैली नाम की यह सैरगाह लंबी, चौड़ी, साफ-सुथरी एवं मनोहारी सैरगाह है। इस वैली में कदम रखने के बाद पर्यटकों का यहां से जाने का मन नहीं करता।

टैरेस गार्डन (सेक्टर-33) - Terrace garden (Sector 33 ) Tourist places

रंग-बिरंगे मौसमी फूलों से भरापूरा यह गार्डन 10 एकड़ भू-भाग में फैला हुआ है। यहां नाना प्रकार के मौसमी फूलों की भरमार है। इस गार्डन को अध्ययन की दृष्टि से महत्त्वपूर्ण माना जाता है। यह बॉटनी (वनस्पति शास्त्र) के शोधकर्ताओं के लिए आदर्श अध्ययन केंद्र भी है।

कला सागर (सेक्टर-10) - Kala Sagar (Sector 10 ) Tourist places

यहां सैकड़ों किस्म की टूटी-फूटी चीजों से कई आकर्षक नमूने तैयार किए गए हैं, इसलिए यह अपने आप में अनूठा है। कला सागर की अद्भुत बनावट व खूबसूरती पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र है। इसका निर्माण विजयपाल गोयल ने करवाया था।

बोगनवेलिया गार्डन (सेक्टर-3) -Bougainvillea Garden (Sector 3 ) Tourist places

इस पार्क में कई किस्म के रंग-बिरंगे बोगनवेलिया के सुंदर फूल हैं। यह पार्क लगभग 20 एकड़ के भू-भाग में फैला हुआ है।

संग्रहालय (सेक्टर-10) -The museum (Sector 10 ) Tourist places

आर्किटैक्ट ला करबूजिए द्वारा बनाई गई इस संग्रहालय की इमारत वास्तुशिल्प कला की दृष्टि से बेजोड़ इमारत है। इस संग्रहालय में कांगड़ा, राजस्थानी व मुगलों के जमाने की कलाकृतियां संग्रहीत हैं, जो कला प्रेमियों को हत्प्रभ कर देती हैं। इस संग्रहालय के पास ही आर्ट गैलरी है। जहां पुराने और आधुनिक समय की कला के उत्कृष्ट नमूने संग्रहीत हैं। यह संग्रहालय सोमवार को बंद रहता है। इसे देखने का समय सुबह 10 बजे से सायं 4.30 बजे तक है।

टोपिआरी पार्क (सेक्टर-35) - Topiary Park (Sector 35 ) Tourist places

जीव-जंतुओं के आकार के अलग-अलग पौधे तथा साड़ियों से निर्मित कृतियां इस पार्क के आकर्षण का केंद्र हैं।

चिडियाघर - Zoo Tourist places

यह चिडियाघर चंडीगढ़ से लगभग 20 किलोमीटर दूर पटियाला मार्ग पर स्थित है। यह चिडियाघर देश के अन्य चिड़ियाघरों के मुकाबले में बहुत ही सुंदर व स्वच्छ है। यहाँ जंगली जानवरों को खुले आसमान के नीचे विचरते देखा जा सकता है। यह चिडियाघर दर्शकों के लिए सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे तक खुला रहता है।

हथिनी कुंड - Hathni Kund Tourist places

हथिनी कुंड एक जल परियोजना है, जिसे ताजेवाला जल परियोजना चंडीगढ़ से इसकी दूरी 109 किलोमीटर है। यह परियोजना पर्यटकों को कर आकर्षित करती है। यहां एक पर्यटन आवास गृह भी है, जहां पर्यटकों के ठहरने की उत्तम व्यवस्था है।

पंचकुला - Panchkula Tourist places

यह नगर शिवालिक पहाड़ियों की तलहटी पर घग्गर नदी के तट पर बसा हुआ है। यह नगर अपने सुन्दर बागो के लिए प्रसिद्ध है। 

चंडीगढ़ कैसे जाएं?

वायु मार्ग : चंडीगढ़ के लिए देश के प्रमुख शहरों से इंडियन एयरलाइंस की व अन्य वायु सेवाएं उपलब्ध हैं।

रेल मार्ग : चंडीगढ़ का रेलवे स्टेशन सिटी सेंटर, है जो सेक्टर 17 से मात्र 8 किलोमीटर दूर है।

सड़क मार्ग : चंडीगढ़ देश के विभिन्न भागों से सड़क मार्ग द्वारा जुड़ा हुआ है। राष्ट्रीय उच्च मार्ग 21 व 22 चंडीगढ़ के लिए प्रमुख मार्ग हैं। दिल्ली, जम्मू, देहरादून, हरिद्वार एवं कई अन्य प्रदेशों के मुख्य शहरों से यहां के लिए सीधी बस सेवाएं हैं। चंडीगढ़ का अंतर्राज्यीय बस अड्डा सेक्टर-17 में है, जहां पर्यटन सेवा, रेलवे आरक्षण, क्लॉकरूम आदि की सुविधा मिलती है। सरकारी बसों के अलावा यहां आने-जाने के लिए निजी टूरिस्ट बसें और टैक्सियां भी उपलब्ध हैं।

कब जाएं?

वैसे तो चंडीगढ़ में आप किसी भी मौसम में आ-जा सकते हैं, लेकिन मार्च से मई तथा सितंबर से नवंबर का मौसम यहां घूमने के लिए उत्तम रहता है। बाकी के महीनों में यहां मौसम के अनुसार भयंकर सर्दी-गर्मी पड़ती है।