बद्रीनाथ के पर्यटन स्थल

Apr 03,2021 06:28 AM posted by Admin

बद्रीनाथ हिंदुओ का प्रमुख धार्मिक स्थल है। पहले बद्रीनाथ की यात्रा बहुत कठिन हुआ करती थी। पर अब यहां सड़क बन जाने के कारण यह यात्रा सुविधाजनक हो गई है ।  यहां सूर्योदय एवं सूर्यास्त के दृश्य बहुत खूबसूरत होते हैं। यहां आने वाले पर्यटक धवल पर्वत शिखरों पर पसरी सूर्य की किरणें देखकर बहुत आनंदित होते हैं। यहां नर और नारायण पर्वत शिखरों पर समुद्र-तल से 3133 मीटर की ऊंचाई पर बद्रीनाथ का प्राचीन मंदिर बना है, जिसके दर्शन करने के लिए लोग दूर-दूर से आते हैं। इस मंदिर के पास ही गर्म जल का एक स्रोत है, जिसमें स्नान करने से सारी थकाने पल भर में दूर हो जाती है।

बद्रीनाथ के पर्यटन स्थल - Tourist places in Badrinath in hindi

भीमपुल, वसुधारा, संतोपंत झील, खिरों घाटी, कागभुशुंडि ताल, पांडुकेश्वर। 

भीम पुल - Bhim Pul Tourist place

बद्रीनाथ से 3 किलोमीटर की दूरी पर भारत-तिब्बत के बॉर्डर के पास 'माणा' नाम का गांव बसा हुआ है। यह गांव इस सरहदी क्षेत्र का आखिरी गांव है। इसी गांव के पास स्थित व्यास गुफा, गणेश गुफा आदि देखने के लिए सैलानी यहां दूर-दूर से आते हैं। यहां से आगे बढ़ने पर सरस्वती नदी पर विशाल चट्टान द्वारा प्राकृतिक रूप से बना एक पुल है, जो भीम पुल के नाम से जाना जाता है।

वसुधारा - Vasudhara Falls Tourist place

भीम पुल से लगभग 5 किलोमीटर की दूरी पर एक मनोहारी झरना है, जो वसुधारा के नाम से जाना जाता है। इस झरने तक की यात्रा बहुत कठिन व जोखिमपूर्ण है, फिर भी इस झरने को देखने के लिए सैलानी यहां अवश्य आते हैं। इस झरने की एक खासियत यह भी है कि यहां ऊपर से नीचे गिरता पानी भाप बनकर हवा में उड़ जाता है, जिसकी वजह से यहां धुंध-ही-धुंध दिखाई देती है। 

सतोपंत झील - Satopanth Tal Tourist place

सतोपंत झील तक पहुंचने के लिए बस अथवा अन्य सुविधाएं नहीं हैं, इसलिए यहां तीन दिन की पैदल यात्रा के बाद पहुंचा जा सकता है। यह झील लगभग 1 किलोमीटर के दायरे में फैली हुई है। आमतौर पर इस झील तक ट्रैकिंग में रुचि रखने वाले पर्यटक ही पहुंच पाते हैं। 

खिरौं घाटी - Khiro Valley Tourist place

बद्रीनाथ धाम से लगभग 14 किलोमीटर की दूरी पर स्थित बेनामुली से आगे खिरौं पर घाटी पड़ती है। इस घाटी का सौंदर्य दर्शनीय है। यहां दुर्लभ कस्तुरी मृग को देखने के लिए सैलानी दुर्गम रास्तों की भी परवाह नहीं करते। यहां सिर्फ पैदल मार्ग द्वारा पहुँचा जा सकता है।

कागभुशुंडि ताल - Kagbhusandi Tal Tourist place

खिरौं घाटी मार्ग पर स्थित गोविंद घाट से इस ताल की दूरी लगभग 35 किलोमीटर पहुंचने के लिए भी पैदल यात्रा करनी पड़ती है। आमतौर पर ट्रैकिंग के शौकीन
ही यहां पहुंच पाते हैं।

पांडुकेश्वर - Pandukeshwar Tourist place

महाभारत कालीन पांडवों की स्मृति से जुड़े रहने की वजह से इस स्थान का पौराणिक
महत्व है। यह बद्रीनाथ से 20 किलोमीटर दूर है। यहां पर स्थापत्य कला के अद्भुत कौशल को दर्शाते दो मंदिर हैं, जो देखने योग्य हैं।

बद्रीनाथ कैसे जाएं? 

सड़क मार्ग : समीपवर्ती प्रदेशों से ऋषिकेश के लिए सीधी बस सेवाएं उपलब्ध हैं। ऋषिकेश से बद्रीनाथ तक पहाड़ी रास्ता है। ऋषिकेश से बस या अपने वाहन द्वारा सुबह चलकर आप शाम तक यहां पहुंच सकते हैं।