औली के पर्यटन स्थल

Mar 12,2021 04:05 AM posted by Admin

औली गढवाल क्षेत्र के विख्यात बद्रीनाथ धाम के निकट घने जंगल, पहाड़ व मखमली से भरापरा एक अत्यंत रमणीक स्थल है। यहां देश का सबसे नया व आधुनिक आइस पीटंग केंद्र भी है, जहां आइस स्कीइंग का भरपूर मजा लिया जा सकता है। समुद्र-तल से इस स्थल की ऊंचाई 2,519 मीटर से लेकर 3,049 मीटर है। यहां से नंदा देवी, हाथी गौरी पर्वत, नीलकंठ व ऐरावत पर्वत का नजारा भी देखा जा सकता है।

सन् 1994 में यहां जोशी मठ से औली तक 4 किलोमीटर लंबे रोपवे का निर्माण किया गया था। 1,927 मीटर से 3,027 मीटर की ऊंचाई तक यह रोपवे श्रेष्ठतम तकनीक से बना एशिया के ऊंचे रोपवे में एक है। इसकी यात्रा पर्यटकों को आनंद-विभोर व रोमांचित कर देती है। 

औली के पर्यटन स्थल - Tourist places in Rishikesh in hindi

जोशी मठ, गुरसों बुग्याल, छत्राकुंड, क्वांरी बुग्याल, सेलधार तपोवन, चिनाब झील और वंशीनारायण कल्पेश्वर। 

जोशी मठ Joshimath Tourist place

जोशी मठ औली से 12 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह जगह मठों, मादरी, स्मारकों के लिए दर्शनीय है। इसके अलावा आप यहां के पर्वतों की सैर भी कर सकते हैं। जोशी मठ को बद्रीनाथ और फलों की घाटी का प्रवेश द्वार माना जाता है।

गुरसौं बुग्याल Gurson Bugyal Tourist place

यह औली से 3 किलोमीटर दूर है। समुद्र-तल से इसकी ऊंचाई 3,055 मीटर है। खूबसूरत नजारों से भरपूर यह मैदान मीलों तक फैला हुआ है। 

छत्रा कुंड Chatra Kund Tourist place

जंगल के बीच स्थित छत्रा कुंड सरोवर गुरसौं से 1 किलोमीटर दूर है। यहाँ का दर्शनीय सरोवर पर्यटकों का मन मोह लेता है।

क्वांरी बुग्याल Kuwari Bugyal Tourist place

क्वांरी बुग्याल समुद्र तल से 3,350 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। टैकिंग करने वालों के लिए यह एक आदर्श स्थल है। यहां दूर-दूर तक विस्तृत ढलानों की खूबसूरती देखते ही बनती है। 

सेलधार तपोवन Saildhar Tapovan Tourist place

यहां गर्म पानी के सोते और फव्वारे देखने योग्य हैं। 

चिनाब झील Chenab Lake Tourist place

प्राकृतिक सौंदर्य से भरपूर यह जगह चाईं थेग की दुर्गम चढ़ाई के बाद सामने आती है। यहां पहुंचने के लिए कठिन चढ़ाई चढ़नी पड़ती है।

वंशीनारायण कल्पेश्वर Vanshinarayan Kalpeshwar Tourist place

इस स्थल तक पहुंचने के लिए पहले जोशी मठ से हेलंग चट्टी आना पड़ता है, जो कि 12 किलोमीटर दूर है। हेलंग चट्टी से 10 किलोमीटर पैदल चलने के बाद कल्पेश्वर की घाटी आती है। वंशीनारायण मंदिर कल्पेश्वर से केवल 2 किलोमीटर दूर है।

औली कैसे जाएं?

सड़क मार्ग : औली के लिए रेल सेवाएं उपलब्ध नहीं हैं, इसलिए यहां सड़क मार्ग द्वारा ही पहुंचा जा सकता है। यह ऋषिकेश से 253 किलोमीटर दूर है। ऋषिकेश से बस द्वारा जोशी मठ होकर औली पहुंचा जा सकता है। जोशी मठ से आप रोपवे द्वारा 4 किलोमीटर की दूरी तय करके औली पहुंच सकते हैं। ऋषिकेश से जोशी मठ के लिए बसों के अलावा जीप भी उपलब्ध हैं।