किन्नर के बारे में रोचक तथ्य - Facts about Kinnar (Hijra) In Hindi

Jun 02,2019 08:26 PM posted by Admin

ऐसा समाज जो न स्त्री का होता है और न ही एक पुरुष का, ऐसे समाज को किन्नर समाज कहा जाता है। इनको लोग किन्नर, हिजड़ा और न जाने किन- किन नामो से पुकारते है। आप जरा याद करने की कोशिश कीजिये कि कभी भी आपने आम इंसान की तरह किन्नरों की शव यात्रा को देखा है। तो आपका जबाब होगा नहीं। आखिर ऐसा क्यों? वह लोग भी इसी दुनिया में रहते है। तो आइये जानते है, इस सवाल के साथ-साथ और भी जाने कई गोपनीय जानकारी- किन्नर के बारे में रोचक तथ्य - Facts about Kinnar (Hijra) In Hindi

किन्नर के बारे में रोचक तथ्य - Amazing Facts about Kinnar (Hijra) In Hindi


1. अगर बात इनकी जनसंख्या की करे तो भारत देश में ही लगभग 5 लाख से भी ज्यादा किन्नर रहते है। 2. किन्नर की उत्पत्ति के पीछे बहुत सारी मान्यताएँ है। 3. यदि कुंडली में बुध ग्रह कमजोर हो तो किन्नर को हरे रंग की चूड़ी और साड़ी दान दे ! 4. सिर्फ मांगलिक कार्यों में ही हिस्सा लेने की वजह से किन्नर समुदाय के सदस्य स्वयं को मंगल मुखी कहते है। 5. किन्नरों की शव यात्राएं रात में निकाली जाती है। ताकि कोई आम इंसान न देख ले। इसका कारण यह है कि जब कोई आम इंसान देख लेता है तो वह किन्नर दोबारा से किन्नर के रूप में ही जन्म लेता है। 6. किन्नर के आशीर्वाद इतने ज्यादा पावरफुल होते है, कि व्यक्ति के बुरे समय को दूर कर देते है। 7. वीर्य की अधिकता से पुरुष जन्म होता है। रक्त (रज) की अधिकता से स्त्री का जन्म होता है। और जब वीर्य और राज़ समान हो तो किन्नर संतान उतपन्न होती है। 8. महाभारत में जब पांडव एक वर्ष का अज्ञात वास काट रहे थे, तब अर्जुन एक वर्ष तक किन्नर वृहन्नला बनकर रहे थे। 9. जब किसी किन्नर की मौत हो जाती है, तो पूरा किन्नर समुदाय एक हफ़्ते तक भूखा रहता है। 10. किन्नर कभी भी मुर्दे को जलाते नहीं है, बल्कि दफनाते है। 11. हिजड़े दो तरह के होते है, एक स्त्री हिजड़ा और दूसरा पुरुष हिजड़ा। 12. किन्नर की मौत के बाद उसके शव को जूतों चप्पलो से पिटा जाता है ये भी इनकी एक परम्परा है 13. किसी किन्नर की मौत होने पर बाकि किन्नर मातम नही ख़ुशी मानते है| इनके यंहा ऐसी मान्यता है की किन्नर की  मृत्यु होने से उसे इस नर्क के समान जीवन से मुक्ति मिली है| 14. किन्नरों का भी विवाह होता हैं। इनका विवाह इनके अराध्य देव अरावन से होता है। वो भी मात्र एक दिन के लिए क्योंकि अगले दिन अरावन देवता की मौत हो जाती हैं और इसी के साथ इनका वैवाहिक जीवन खत्म हो जाता हैं। 15. फिलहाल देश में किन्नरों की चार देवियां हैं। 16. ब्रह्माजी की छाया से किन्नरों की उत्पत्ति हुई है। दूसरी मान्यता यह है कि अरिष्टा और कश्यप ऋषि से किन्नरों की उतपत्ति हुई है। 17. स्वप्न शास्त्र के मुताबिक अगर आप सपने में किन्नर देखते हैं तो इसका तात्पर्य यह है कि भविष्य में आपका दांपत्य जीवन संतोषजनक नहीं रहेगा।