पुखराज धारण करने के फायदे, पहनने से बदल जाएगी किस्मत

पुखराज धारण करने के फायदे, पहनने से बदल जाएगी किस्मत

Dec 31,2021 02:13 AM posted by Admin

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, जीवन को नवग्रह हर जगह प्रभावित करते हैं। इन नव ग्रहों का प्रतिनिधित्व रत्न करते हैं। इन रत्नों को धारण करने से जीवन की मुश्किलें आसान होने लगती है। हर रत्न हमारे जीवन पर अलग अलग प्रभाव डालता है। इन रत्नों में इतनी शक्ति होती है कि यह आपकी सोई किस्मत भी जगा सकते हैं और आपको मालामाल कर सकते हैं। बॉलीवुड की भी कई बड़ी बड़ी हस्तियां रत्न धारण करती हैं। आप अमिताभ बच्चन, सलमान खान, एकता कपूर आदि के हाथों में आसानी से रत्न जड़ित अंगूठियां आदि डाले देख सकते हैं। आज हम आपके लिए लाए हैं रत्नों के राजा पुखराज रत्न के बारे में संपूर्ण जानकारी। आप इस लेख में पाएंगे कि पुखराज को कैसे धारण करते हैं और यह किस प्रकार से आपके जीवन पर अपना प्रभाव डालता है।

पुखराज को ज्योतिष शास्त्र में रत्नों का राजा माना गया है। पुखराज पीले रंग का होता है और देखने में बहुत ही सुन्दर एवं चमकदार लगता है। पुखराज को बृहस्पति ग्रह का स्वामी माना जाता है और यह रत्न कुंडली में बृहस्पति की दशा को सही करता है। जिनकी कुंडली में गुरु की दशा अच्छी हो उनके लिए यह रत्न दिन दोगुनी रात चौगुनी तरक्की लाता है। अगर आपकी कुंडली में गुरु कमजोर है तो भी आप पुखराज को धारण कर सकते हैं। पुखराज धारण करने से कुंडली में गुरु मजबूत होता है और आपके तरक्की के रास्ते खुलते हैं। इसे धारण करने से धन समृद्धि में भी वृद्धि होती है। इसके अलावा अगर विवाह होने में किसी भी कारण से बाधाएं आ रही हैं तो भी यह रत्न फायदेमंद साबित होता है। अगर वैज्ञानिक दृष्टि से देखा जाए तो यह रत्न पाचन क्रिया को दुरुस्त करता है। पुखराज सीधा आपकी सेहत पर असर डालता है और स्वास्थ्य रखता है।

पुखराज आपकी किस्मत चमका सकता है अगर आपको इसे धारण करने का सही तरीका पता है तो। पुखराज सोने के साथ ही पहनना चाहिए। पुखराज हमेशा कम से कम 5 कैरेट और ज्यादा से ज्यादा 7 कैरेट का ही सोने की अंगूठी में जड़वा कर धारण करना चाहिए। पुखराज हमेशा गुरुवार को ही धारण करना चाहिए और अगर गुरुवार को पुष्य नक्षत्र पड़ रहा है तो यह और भी शुभ है। अंगूठी धारण करने से पहले अंगूठी को दूध में धोकर कर फिर उसे गंगाजल से धोना चाहिए। इसे बाद पुखराज को बृहस्पति देव के चरणों से लगा कर ' ऊं ब्रह्म बृहस्पतये नमः' की एक माला का जाप करें और इसे अपनी तर्जनी अंगुली में धारण करें।

पुखारज अगर आप अहनी राशी के अनुसार पहन रहे हैं तो य़ह और भी शुभदायक होता है। पुखराज मिथुन, वृषभ और कन्या राशि  वालों के लिए शुभ फल देने वाला होता है। अगर पुखराज मीन और धनु राशि के जातक पहन रहे हैं तो यह रत्न उनके भग्यवृद्धि का कारण बनता है। अगर आप भी पुखराज धारण करने के बारे में सोच रहे हैं तो किसी ज्योतिषी की सलाह लेकर ही इसे धारण करें।