पथरी के घरेलू उपाय – Home Remedies For Stone In Hindi

पथरी का होना कोई बड़ी बीमारी नहीं है लेकिन अगर समय रहते इसका इलाज न कराया जाए, तो यह एक बड़ी समस्या बन सकती है। पथरी की समस्या आक्सलेट, कैल्शियम, फास्फेट और प्यूरीन का अधिक सेवन कर लेने से होती है। हमारे घरों में ऐसी बहुत सारी चीजे मौजूद होती है, जिनका सेवन करने से पथरी से निकल जाती है-

पथरी से राहत पाने के असरदार घरेलू उपाय - Home Remedies For Stone In Hindi

पथरी से राहत पाने के असरदार घरेलू उपाय – Home Remedies For Stone In Hindi


1. नारियल का पानी पीने से पथरी निकल जाती है।

2. करेला गुर्दे या मूत्राशय की पथरी को तोड़कर पेशाब के साथ बाहर लाता है।

3. छुईमुई लाजवन्ती की जड़ या पंचांग का काढ़ा पिलाने से मूत्रावरोध दूर होकर पथरी निकल जाती है

4. मक्का के भुट्टे जलाकर राख कर लें, जौ को भी जलाकर राख कर लें। दोनों को अलग-अलग पीसकर अलग-अलग शीशियों में भर कर दोनों पर नाम लिख दें। एक कप पानी में मक्का की राख दो चम्मच घोलो फिर छानकर इस पानी को प्रात: पीएँ इससे पथरी गल जाती है।

5. जीरे और चीनी को समान मात्रा में पीसकर एक-एक चम्मच ठण्डे पानी में नित्य तीन बार फंकी लेने से पथरी में लाभ होता है।

6. जौ का पानी पीने से पथरी निकल जाती है।

7. 15 दाने बड़ी इलायची के, 1 चम्मच खरबूजे के बीज की मिंगी, दो चम्मच मिश्री इन सबको पीसकर एक कप पानी में मिलाकर सुबह-शाम दो बार नित्य पीते रहें। इससे गुर्दे की पथरी गल जाती है।

8. सहजन की सब्जी गुर्दे व मूत्राशय की पत्थरी को तोड़कर, पेशाब के साथ पथरी को निकाल देती है।

9. पथरी के रोगियों के लिए खरबूजा खाना उपयोगी है।

10. गुर्दे और मूत्राशय में पथरियाँ बनती हैं। ऑपरेशन कराके निकाल देने के पश्चात् भी प्राय: पथरी बन जाती है। सेब का रस पीते रहने से पथरी बनना बन्द हो जाता है

11. आँवले का चूर्ण, मूली के साथ खाने से मूत्राशय की पथरी में लाभ होता है।

12. मिश्री, सौंफ, सूखा धनिया प्रत्येक 50 ग्राम को डेढ़ किलो पानी में प्रातः भिगो दें। शाम को छानकर इन्हें पीसकर इसी पानी में घोलकर छान कर पीयें। एक बार में नहीं पीया जाये तो कुछ समय बाद पुन: पीयें। इसी प्रकार शाम को भिगोकर प्रातः तैयार करके पीयें। इससे पेशाब खुलकर आयेगा। पथरी निकल जायेगी।

13. पका हुआ जामुन खाने से पथरी के रोग में आराम होता है।

14. छुहारे का सेवन पथरी में लाभदायक है।

15. पथरी, मूत्राशय की सूजन, गुर्दो की सफाई के लिए गाजर, चुकन्दर, ककड़ी, या खीरे का रस प्रत्येक 150 ग्राम मिलाकर पीने से लाभ होता है।

16. खीरे का रस पथरी में लाभदायक है। इसका रस 250 ग्राम दिन में तीन बार नित्य पीना चाहिए।

17. प्याज के रस में चीनी डालकर शर्बत बनाकर पीने से पथरी कट-कटकर बाहर आ जाती है।

18. आलू खिलाकर और बार-बार अधिक पानी पिलाते रहने से गुर्दो की पथरियाँ आसानी से निकल जाती है।

19. गुर्दे या मूत्राशय की पथरी हो तो रात को चने की दाल भिगो दें, प्रातः इस दाल में शहद मिलाकर खायें लाभ मिलेगा।

20. अखरोट साबुत (गिरी और छिलके सहित) कूटकर, छानकर एक चम्मच सुबह-शाम ठण्डे पानी से कुछ दिन लेने से पथरी निकल जाती है।

21. 6 ग्राम मेहँदी के पत्ते, 500 ग्राम पानी में उबालें, जब 150 ग्राम पानी रह जाये तो छानकर गरम-गरम यह पानी पिलायें। यह पाँच दिन करें। पथरी निकल जायेगी। गुर्दे के रोग ठीक हो जायेंगे।

22. गन्ना चूसते रहने से पथरी के टुकड़े-टुकड़े होकर यह निकल जाती है।

23. 6 ग्राम अजवाइन नित्य फाँकने से गुर्दे व मूत्राशय की पथरी निकल जाती है।

24. नीम के पत्तों की राख 6 ग्राम ठण्डे पानी से तीन बार नित्य फँकी लें। कुछ ही दिनों में गुर्दे और मूत्राशय की पथरी गलकर निकल जाती है।