एसिडिटी के घरेलू उपचार – Home Remedies For Acidity In Hindi

इंसान के खून में जब 20% एसिड और 80% क्षार होता है, तब खून में एसिडिटी बढ़ती है। और यही एसिड शरीर को प्रभावित करके एसिडिटी रोग पैदा करता है। आमतौर पर इसे ह्रदयदाह, अम्लशूल और कलेजा जलना भी कहते है।

पेट से निकलने वाला अम्ल ( एसिड ) अधिक लार के साथ जब हमारे गले तक आ जाता है तब पेट मे जलन, खट्टापन महसूस होता है। यदि आप भी खट्टेपन से परेशान है, तो इन नुस्खों से उपचार करके अपने आप को स्वस्थ कर सकते है-

एसिडिटी के घरेलू उपचार - Home Remedies For Acidity In Hindi

एसिडिटी के घरेलू उपचार – Home Remedies For Acidity In Hindi


1. गैस और एसिडिटी के मरीजों को फालसो का सेवन करने से आराम मिलता है।

2. आंवला और मिश्री समान मात्रा में मिलाकर फंकी लेने से एसिडिटी में आराम महसूस होता है।

3. एसिडिटी होने पर भुना हुआ आलू खाने से रोगी को आराम मिलता है।

4. गाजर का रस पीने से एसिडिटी ठीक हो जाती है।

5. सुबह शाम खाना खाने के बाद एक लौंग खाने से एसिडिटी में लाभ मिलता है।

6. एसिडिटी होने पर जब खट्टी डकार आए तब मूली के रस में मिश्री मिलाकर पीने से लाभ मिलता है।

7. केले के ऊपर चीनी और इलायची डालकर खाने से एसिडिटी ठीक हो जाती है।

8. खाना खाने से आधे घंटे पहले एक गिलास गर्म पानी मे नीबू निचोड़कर पीने से एसिडिटी ठीक हो जाती है।

9. कच्चा नारियल का पानी एसिडिटी को ठीक कर देता है।

10. जीरा, धनिया और मिश्री समान मात्रा में मिलाकर सुबह शाम फाँकी लेने से एसिडिटी में लाभ मिलता है।

11. काली मिर्च में स्वादानुसार सेंधा नमक मिलाकर सुबह शाम फंकी लेने से खट्टी डकारें आनी बन्द हो जाती है।

12. पिसी हुई अजवाइन एक चम्मच , एक गिलास पानी, एक नीबू का रस मिलाकर पीने से पेट मे होने वाली एसिडिटी खत्म हो जाती है।