शहद के फायदे – Benefits Of Honey In Hindi

शहद के फायदे – Benefits Of Honey In Hindi


1. अदरक को पानी में उबालकर फिर उसमे शहद मिलाकर पीने से सांस की समस्या दूर हो जाती जाती है।

2. बिच्छू बूटी की पत्तियों को पानी में उबालकर उसमे थोड़ा शहद मिलाकर पीने से एलर्जी ख़त्म हो जाती है।

3. हल्दी पाउडर और शहद मिलाकर खाने से एलर्जी ख़त्म हो जाती है।

4. नीबू रस और शहद को गुनगुने पानी में मिलाकर पीने से पेशाब दर्द ख़त्म हो जाता है।

5. नीबू और शहद को गर्म पानी में मिलाकर पीने से सूजन ख़त्म हो जाती है।

6. सोने से पहले अदरक के पेस्ट में शहद मिलाकर खाने से शीघ्रपतन होना बंद हो जाता है।

7. तरबूज में अदरक पाउडर और नमक मिक्स करके खाने से शीघ्र स्खलन की समस्या दूर हो जाती है।

8. गुनगुने पानी में शहद मिलाकर पीने से बैठे हुए गले की समस्या दूर हो जाती है।

9. शहद में ओटमील और पानी में मिक्स करके दाग-धब्बो पर लगाने से निशान खत्म हो जाते है।

10. हरड़ को पीसकर शहद में मिलाकर चाटने से उल्टी बन्द हो जाती है।

11. पाँच कली लहसुन की,  मुनक्का या शहद के साथ दिन में तीन बार सेवन करने से पेट के कीड़े ( कृमि ) मर जाते हैं।

12. सुबह-शाम शहद का सेवन करने से कृमि में लाभ होता है।

13.  ताजे आंवले का रस (60 ग्राम), शहद (23 ग्राम) आधा गिलास पानी में मिलाकर पीने से पीलिया में आराम होता है।

13. रोजाना तीन बार एक-एक चम्मच शहद पानी के गिलास में मिलाकर पिलाने से पीलिया ठीक हो जाता है।

14. 12 ग्राम नीबू का रस, 6 ग्राम अदरक का रस और 6 ग्राम शहद एक कप पानी में मिलाकर पीने से पेट दर्द ठीक हो जाता है।

15. जीरा पीसकर शहद के साथ चाटने से पेट दर्द ठीक हो जाता है।

16. एक-एक चम्मच नीबू का रस और शहद में स्वादानुसार काला नमक मिलाकर पीने से हिचकी बन्द हो जाती है।

17. सौंठ, पीपल, आँवला और मिश्री-इन सबको पीसकर शहद के साथ तीन ग्राम हर दो घंटे से चाटने से हिचकी में लाभ होता है।

18. 12 ग्राम तुलसी का रस, 6 ग्राम शहद दोनों को मिलाकर पीने से हिचकी बन्द हो जाती है।

19. चार पीपल पीसकर आधा चम्मच शहद में मिलाकर चाटने से बढ़े हुए यकृत रोगी को लाभ मिलता है।

20. दस काली मिर्च पीसकर शहद में मिलाकर सुबह-शाम चाटें। रात को काली मिर्च और दूध गरम करके पीयें। सूखी खाँसी में लाभ होगा।

21. आधा चम्मच प्याज के रस में 1 छोटा चम्मच शहद मिलाकर दिन में दो बार लेंने से खांसी ठीक हो जाती है।

22. लौंग को आग में भूनकर शहद में मिलाकर चाटने से कूकर खाँसी ठीक हो जाती है।

23. दमा के रोगी को नित्य एक नीबू , दो चम्मच शहद और एक चम्मच अदरक का रस, एक कप गरम पानी के साथ पीते रहने से बहुत लाभ होता है।

24. एक कप गरम पानी में दस बूंद लहसुन का रस, दो चम्मच शहद नित्य प्रात: दमा के रोगी को पीने से लाभ मिलता है।

25. आधा ग्राम पिसी हुई फिटकरी, शहद में मिलाकर चाटने से दमा, खाँसी में आराम आता है।

26. उबाले हुए पानी के गिलास में शहद डाल कर रोगी को गरम-गरम पिलाते रहने से आँतों पर शामक प्रभाव पड़ता है। रोगी दुर्बल नहीं होता। निमोनिया से भी राहत मिलती है।

27.  एक कप आमरस में 60 ग्राम शहद मिलाकर सुबह-शाम दो बार नित्य पीयें। नित्य तीन बार गाय का दूध पीयें। इस प्रकार 21 दिन करने से यक्ष्मा (टी.बी.) में लाभ होता है।

28. कच्चे आंवले को पीसकर इसका जूस बना लें और इसमें 1 चम्मच शहद मिलाकर रोजाना सुबह पीने से टी.बी. में फायदा होता है।

29. संतरे के जूस में नमक और शहद मिलाकर रोजाना सुबह-शाम पीएं। इसके अलावा संतरा खाने से भी टी.बी. के रोगी को फायदा होता है।

30. 25 ग्राम शहद, 100 ग्राम मक्खन में मिलाकर खिलाने से टी.बी. रोग सही हो जाता है।

31. उबले हुए पानी में शहद डालकर रोगी को गरमा-गरम पिलाते रहने से आन्त्र-ज्वर (टाइफाइड बुखार) ठीक होने लगता है।

32. टाइफाइड बुखार होने पर शहद, पान और अदरक का रस बराबर मात्रा में लेकर मिलाएं और सुबह-शाम पीएं।

33. 2 कप दही में 2 केलो को मैश करें और 1 चम्मच शहद मिलाकर खाने से टाइफाइड बुखार से छुटकारा मिलता है।

34. टाइफाइड बुखार होने पर एक गिलास पानी में आधा चम्मच सेब का सिरका और थोड़ा सा शहद मिला पीए।

35. ताजे आँवलों के चार चम्मच रस में एक चम्मच शहद मिलाकर पीने से मधुमेह ठीक हो जाता है।

36. शहद का सेवन गुर्दे के रोगों से बचाता है।

37. एक किलो पानी में, 45 ग्राम प्याज के टुकड़े डालकर उबालें। इसे छानकर शहद मिलाकर नित्य 3 बार पिलाने से पेशाब खुलकर तथा बिना कष्ट के आता है।

38. शहद में पिसी हुई बारीक हरड़ मिलाकर छालों पर लगायें, लाभ होगा।

39. खसरा निकलने पर लौंग को घिसकर शहद के साथ देने से खसरा ठीक हो जाता है।

40. मुलेठी की जड़ का पाउडर और शहद दिन में 5-6 बार आधा चम्मच लेने से खसरा रोगी को काफी लाभ होता है।

41. दस ग्राम सफेद प्याज का रस, अदरक का रस आठ ग्राम, शहद पाँच ग्राम, घी तीन ग्राम मिलाकर रात्रि को सोते समय पीने से स्वप्न-दोष नहीं होता।

42. सोते समय शहद का सेवन कराते रहने से बच्चों को नींद में मूत्र निकल जाने का रोग दूर हो जाता है।

43. तुलसी के पत्तों का रस शहद में मिलाकर मसूड़ों पर लगाने से और थोड़ा-सा चटाने से दाँत बिना कष्ट से निकल आते हैं।

44. दांत निकलने वाले बच्चों के मसूड़ों पर शहद रगड़ने से दांत बिना कष्ट के निकलते हैं।

45. एक चम्मच शहद में बीस बूंद लहसुन का रस मिला कर चाटने से पायोरिया, मसूड़ों की सूजन, दर्द, बदबू से राहत मिलती है।

46. जीरा सेक कर पीस कर एक चम्मच लेकर एक चम्मच शहद में मिलाकर खाना खाने के बाद नित्य चाटने से नेत्र दुखने में लाभदायक रहता है।

47. आँखों में काजल की तरह शहद, सोते समय लगाने से रतौंधी दूर होती है।

48. अमचूर को भिगोकर उसमें शहद मिलाकर बच्चे को नित्य दो बार चटाने से सूखा रोग ठीक होता है।

49. एक नीबू, एक गिलास गर्म पानी और दो चम्मच शहद मिलाकर चार महीने तक पीने से मोटापा कम होता है।

50. चने की भीगी हुई दाल और शहद मिलाकर रोजाना सुबह खाने से मोटापा कम होता है।

51. तुलसी के पत्तों का रस, शहद तथा एक कप पानी में मिलाकर पीने से मोटापा घटता है।

52. वारपाठे का ताजा रस 25 ग्राम, शहद 12 ग्राम और आधे नीबू का रस मिलाकर दो बार सुबह-शाम पीते रहने से सभी प्रकार के पेट के रोग ठीक हो जाते हैं।

53. 70 ग्राम आम का रस, 15 ग्राम शहद में मिलाकर रोजाना सुबह 3 सप्ताह पीने से तिल्ली की सूजन और घाव में लाभ होता है।

54. यदि रोगी बार-बार पलकें झुकाता है, उसके किसी अंग में झटके लगते हैं तो शहद के सेवन से अंगों की ऐंठन दूर हो जाती है।

55. घावों पर शहद की पट्टी बाँधने से आराम होता है।

56. मोम को गर्म करके शहद मिलायें तो मरहम बन जायेगा। इससे उपचार करने से घाव ठीक हो जाते हैं।

57. शहद में पानी मिलाकर पीने से अनेक चर्म रोग, जैसे-खुजली, शरीर पर हल्के दाग, फोड़े-फुन्सी, मुँहासे ठीक हो जाते हैं।