आंवला के फायदे, गुण, लाभ – Amla ke Fayde, Gun, Labh in Hindi

आंवला के फायदे, गुण, लाभ – Amla ke Fayde, Gun, Labh in Hindi


1. पानी में या जैतून तेल में आंवला पाउडर को मिक्स करके स्किन पर मसाज करने से दाग साफ हो जाता है।

2. दो-दो आँवले के मुरब्बे दिन में चार बार खिलाने से उलटियाँ ठीक हो जाती हैं।( गर्भावस्था में भी खा सकते है। )

3. ताजे आँवले का रस रोजाना 5 दिन पीने से कीड़े नष्ट हो जाते हैं।

4. ताजे आंवले का रस (60 ग्राम), शहद (23 ग्राम) आधा गिलास पानी में मिलाकर पीने से पीलिया में आराम होता है।

5. आंवला और मिश्री समान मात्रा में मिलाकर फंकी लेने से एसिडिटी में आराम महसूस होता है।

6. सौंठ, पीपल, आँवला और मिश्री इन सबको पीसकर शहद के साथ तीन ग्राम हर दो घंटे से चाटने से हिचकी में लाभ होता है।

7. 5 चम्मच पिसे हुए आँवले को रात को आधा कप पानी में भिगो दें, प्रातः इस पानी से सिर धोयें। इससे फरास जमना बन्द हो जाता है।

8. आंवला, रीठा, शिकाकाई को एक मिक्सर में मिक्स करके, गूदे को पानी में उबालने के लिए रख दें। अब पानी को छान लें और इस पानी से रोज़ाना शैम्पू के बाद बालों को धो लें। गंजेपन की समस्या दूर हो जाएगी।

9. आंवले के रस को बादाम के तेल के साथ मिक्स करके लगाएं। इस तरीके को अपनाने से कुछ ही दिनों में सफेद बाल काले होने लगेंगे।

10. कच्चे आंवले को पीसकर इसका जूस बना लें और इसमें 1 चम्मच शहद मिलाकर रोजाना सुबह पीने से टी.बी. में फायदा होता है।

11. ताजे आँवलों के चार चम्मच रस में एक चम्मच शहद मिलाकर पीने से मधुमेह ठीक हो जाता है।

12. आँवले का चूर्ण, मूली के साथ खाने से मूत्राशय की पथरी में लाभ होता है।

13. तीन आँवलों का रस पानी में मिलाकर सुबह-शाम चार दिन पीने से बार-बार पेशाब जाना बन्द हो जाता है।

14. एक केला खाकर आँवले के रस में शक्कर मिलाकर पीयें। बार-बार पेशाब का आना बन्द हो जायेगा। अकेला केला खाने से भी बार-बार पेशाब जाना कम हो जाता है।

15. जिन्हें प्राय: नकसीर आती रहती है, वे सूखे आंवलों को रात को भिगोकर उस पानी से प्रात: नित्य सिर धोयें। आँवले का मुरब्बा खायें। यदि नकसीर किसी भी प्रकार से बन्द न हो तो आँवले का रस नाक में टपकायें और आँवले को पीसकर सिर पर लेप करें, अवश्य लाभ होगा।

16. सूखे आँवले को बारीक पीसकर एक चाय की चम्मच सुबह-शाम दो बार छाछ या दध से लेने से खूनी बवासीर में लाभ होता है।

17. खसरा निकलने पर लौंग को घिसकर शहद के साथ देने से खसरा ठीक हो जाता है।

18. खसरा निकलने के बाद शरीर में जलन, खुजली हो तो सूखे आँवलों को पानी में उबालकर ठण्डा होने पर इससे नित्य शरीर धोयें। खसरे की खुजली, जलन दूर हो जायेगी।

19. बच्चों का हकलाना, तुतलाना आँवला चबाने से ठीक हो जाता है।

20. एक मुरब्बे का आँवला नित्य खाने से स्वप्न-दोष में लाभ होता है।

21. काँच के गिलास में 20 ग्राम पिसा हुआ सूखा आँवला डालें। इसमें 60 ग्राम पानी भरें और फिर बाहर घंटे भीगने दें। फिर छानकर इस पानी में एक ग्राम पिसी हुई हल्दी डालकर पीयें। यह युवकों के स्वप्नदोष के लिए अच्छी औषधि है। आँवला वीर्य की निर्बलता दूर करता है।

22. सूखा आँवला और मिश्री समान भाग पीस लें। इसकी एक चम्मच की फँकी नित्य पानी से लेने से हृदय के सारे रोग दूर हो जाते हैं, साथ ही हृदय की दुर्बलता भी खत्म हो जाती है।

23. एक ग्राम पिसा हुआ आँवला, एक ग्राम पिसा हुआ काला जीरा और दो ग्राम पिसी हुई मिश्री मिलाकर फंकी लें। ऊपर से ठण्डा पानी पीयें। बिस्तर में पेशाब करने का रोग दूर हो जायेगा।

24. पाव भर पानी में 6 ग्राम सूखा आँवला रात को भिगो दें। प्रात: इस पानी को छानकर आँखें धोयें। इससे आँखों के सब रोग दूर होते हैं और दृष्टि बढ़ती है। सूखे आँवले के चूर्ण की एक चाय की चम्मच की फँकी रात को पानी से लें। इससे आँखों की दृष्टि बढ़ती है।

25. आँवले का शर्बत पीने से चक्कर आना बन्द हो जाता है।

26. आँवले का मुरब्बा खाने से याददाश शक्ति बढ़ जाती है।

27. आँवला पीस कर पानी में भिगोकर चेहरे पर उबटन की तरह मलें। सौन्दर्य निखरेगा और दाग, धब्बे हट जायेगे

29. हरा धनिया और सूखा आँवला, दोनों की चटनी बना कर नित्य खाने से अधिक प्यास,कण्ठ सूखना ठीक हो जाता है

30. आँतों का  रोगों को दूर करने के लिए तीन चम्मच पिसा हुआ आँवला रात को एक गिलास पानी में भिगो दें। प्रात: उसे छान कर चार चम्मच शहद मिलाकर रोज  पियें इससे रोग ठीक हो जाएगा

31. गर्मी में आँवले का शर्बत पीने से बार-बार प्यास नहीं लगती तथा गर्मी के रोगों से बचाव होता है।

32. तीन चम्मच पिसा हुआ आँवला रात को एक गिलास पानी में भिगो दें। प्रात: उसे छानकर चार चम्मच शहद मिलाकर पियें। इससे चर्म रोग दूर होंगे।

33. भोजन में उबली हुई सब्जियाँ, सलाद, कच्ची सब्जियों का रस, मौसम के फल, गाजर का रस, आँवले का रस आदि का सेवन करने से चर्म रोग दूर हो जाते है।

34. आँवला पीस कर एक चम्मच इसकी फँकी सुबह-शाम पानी के साथ लेने से कोढ़ रोग में लाभ मिलता है।