आदि शंकराचार्य के अनमोल विचार – Adi Shankaracharya Quotes In Hindi

आदि शंकराचार्य के अनमोल विचार – Adi Shankaracharya Quotes In Hindi

आदि शंकराचार्य के अनमोल विचार – Adi Shankaracharya Quotes In Hindi


Quote: 1 बाहरी ताकतों को अपने से दूर रखना और दुनिया के तमाम चीजों की तरफ आकर्षित ना होना ही आत्मसंयम कहलाता है ।

Adi Shankaracharya – आदि शंकराचार्य

Quote: 2 लोग अभी तक याद रखते हैं जब तक उनकी सांसे चलती है जैसे ही सांसे चलानी बंद हो जाती है सबसे करीबी रिश्तेदार ,मित्र यहां तक कि पत्नी भी अपनों से दूर चली जाती है ।

Adi Shankaracharya – आदि शंकराचार्य

Quote: 3 हमें आनंद तभी प्राप्त होता है जब हम आनंद की तलाश नहीं करते हैं ।

Adi Shankaracharya – आदि शंकराचार्य

Quote: 4 धर्म की पुस्तकों को पढ़ना उस वक्त तक कोई मतलब नहीं होता जब तक कि हमें सच का पता लग जाए और जैसे ही हम सच को जान पाते हैं फिर धर्म ग्रंथ की किताबों को पढ़ना कोई मायने नहीं रखता फिर सत्य की राह पर चलो ।

Adi Shankaracharya – आदि शंकराचार्य

Quote: 5 अज्ञानता के कारण आत्मा बहुत ही सीमित लगती है लेकिन जब अज्ञानता नामक अंधेरा मिट जाता है तब आत्मा वास्तविक स्वरूप का ज्ञान प्राप्त कर लेती है जैसे की बादलों के हट जाने पर सूर्य साफ साफ दिखाई देने लग जाता है ।

Adi Shankaracharya – आदि शंकराचार्य

Quote: 6 जिस दिन आपको सच जानने की जिज्ञासा पैदा हो जाएगी उस दिन यह दुनिया अर्थहीन लगने लग जाएगी ।

Adi Shankaracharya – आदि शंकराचार्य

Quote: 7 इंसान को यह जानना चाहिए कि हमारी आत्मा एक राजा के समान होती है जो शरीर ,मन, इंद्रियां और बुद्धि से बिल्कुल ही अलग होती है बस आत्मा इन सबका साक्षी स्वरूप होता है ।

Adi Shankaracharya – आदि शंकराचार्य

Quote: 8 दुनिया का सबसे अच्छा और बड़ा तीर्थ इंसान का अपना मन होता है इसलिए हमें किसी भी तीर्थ को करने की जरूरत नहीं होती है ।

Adi Shankaracharya – आदि शंकराचार्य

Quote: 9 मंदिर में केवल वही इंसान पहुंचता है जो धन्यवाद देने जाता है मांगने नहीं जाता ।

Adi Shankaracharya – आदि शंकराचार्य

Quote: 10 परमात्मा और आत्मा में कोई फर्क नहीं होता यह दोनों एक ही है लेकिन इंसान अज्ञानता के कारण इसे अलग अलग समझ बैठता है ।

Adi Shankaracharya – आदि शंकराचार्य

Quote: 11 वास्तव में सत्य की कोई भी भाषा नहीं होती है ,केवल भाषा को इंसान बनाता है ,लेकिन सत्य का मनुष्य के द्वारा निर्माण नहीं किया गया बल्कि आविष्कार किया गया है सत्य को कभी भी बनाना या फिर प्रमाणित नहीं करना पड़ता है सिर्फ दिखना पड़ता है ।

Adi Shankaracharya – आदि शंकराचार्य

Quote: 12 सत्य की केवल इतनी परिभाषा है ,कि सत्य कल भी था ,सत्य आज भी है ,और सत्य कल भी रहेगा ।

Adi Shankaracharya – आदि शंकराचार्य